You are currently viewing VPN Kya Hai : VPN कैसे काम करता है, वीपीएन सेटिंग कैसे करें

VPN Kya Hai : VPN कैसे काम करता है, वीपीएन सेटिंग कैसे करें

VPN Kya Hota Hai | vpn kya hai in hindi | vpn means in hindi | vpn full form in hindi | vpn meaning in hindi | meaning of vpn in hindi | vpn network in hindi | about vpn in hindi | what is vpn in hindi | vpn in hindi | vpn ka full form | vpn ka matlab | vpn kaise use kare | vpn kya hai | fast vpn kya hai | vpn kya karta hai | Best VPN app free | Vpn कैसे काम करता है | वीपीएन सेटिंग कैसे करें

VPN Kya Hai? अगर नही जानते है, तो आप इस पोस्ट को आप अच्छे से पढिये। वीईपीएन एक तेज प्रॉक्सी सेवा है, जो हर किसी के लिए इंटरनेट गोपनीयता और सुरक्षा सुनिश्चित करता है। क्योंकि आज के समय में हर कोई इंटरनेट का इस्तेमाल करता है, जैसे कि वीडियोस देखना, कुछ डाउनलोड करना या online पेमेंट करना हो। आज हम इस पोस्ट में  what is VPN in hindi, VPN का कैसे use kare, VPN meaning in hindi, वीपीएन कैसे सेट करें और VPN full Form in hindi जैसे सभी महत्वपूर्ण जानकारियां देंगे, तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़े और वीपीएन सेटिंग कैसे करें, VPN ka use kaise kare आसान और सरल भाषा में समझे।

VPN Kya Hai ? – What is VPN in Hindi

VPN Kya Hai यानी कि Virtual Private Network, एक ऐसा नेटवर्क है जो आपको किसी public internet connection से private internet connection बनाने के दौरान ऑनलाइन प्राइवेसी और गुमनामी (anonymity) प्रदान करता है. VPN आपके Internet Protocol (IP) address को छुपा लेता है ताकि आपके द्वारा लिए गए online actions untraceable रहें.

VPN Kya Hota Hai

सबसे महत्वपूर्ण बात, VPN एक ऐसा सुरक्षित और encrypted कनेक्शन तैयार करता है VPN Kya Hai जो किसी secure Wi-Fi Hotspot के मुकाबले अधिक privacy प्रदान करता है. यह अनधिकृत (unauthorized) लोगों को जासूसी करने से रोकता है और उपयोगकर्ता को दूर से संचालन करने की आज्ञा देता है.

VPN का फुल फॉर्म क्या है? VPN Ka Full Form

vpn full form in hindi वीपीएन (VPN) का फुल फॉर्म है – Virtual Private Network

VPN काम कैसे करता है? VPN Kaam Kaise Karta Hai

Vpn कैसे काम करता है जब आप अपने Browser में किसी Website का URL डालकर OK प्रेस करते हैं। तो सबसे पहले आपकी Request आपके ISP यानि कि Internet Service Provider के पास जाती है। जहाँ आपकी Online Identity, Device ID, Location और Data Request जैसी तमाम Details चैक की जाती हैंं। और उसके बाद आपको उस वेबसाइट के Server से जोड़ा जाता है। उसके बाद आपके और उस वेबसाइट के बीच जो भी Data का आदान-प्रदान होता है, वह सब ISP के जरिए ही होता है। ऐसे में आपका कोई भी Data गोपनीय नहीं रहता।

इसके अलावा आपका Network भी पूरी तरह Secure नहीं रहता। जिससे कि हर पल Data चोरी होने का खतरा रहता है। साथ ही Restriction भी एक बड़ी समस्या है। जो आपको Blocked Websites को Access करने से रोकती है। कुल मिलाकर आपको Freedom, Privacy और Security जैसी समस्याओं से जूझना पड़ता है। लेकिन VPN इन सारी समस्याओं का समाधान है। क्योंंकि VPN की कार्यप्रणाली बिल्कुल अलग है। कैसे? आइए, समझने की कोशिश करते हैं।

VPN की कार्यप्रणाली

मान लीजिए कि VPN Kya Hai आप अपने Smartphone के Browser से मेरी यह वेबसाइट ओपन करना चाहते हैं। तो जैसे ही आप techsevi.com टाईप करके OK प्रेस करेंगे। आपकी Request सीधे VPN Server के पास जाएगी। और आपके फोन से जो Request के रूप में Data Traffic जाएगा, वह पूरी तरह Encrypted होगा। और एक Secure Tunnel के जरिए भेजा जाएगा। साथ ही आपकी ऑनलाइन Identity बिल्कुल गुप्त रहेगी। क्योंकि Data Traffic आपके Smartphone की बजाय VPN Server से भेजा जाएगा।

लेकिन जैसे हीVPN Kya Hai आपका डाटा VPN Server के पास जाएगा, वह Decrypt हो जाएगा। उसके बाद VPN आपकी Request को techsevi.com के Server पर भेजेगा। और वहाँ से जवाब प्राप्त करके उसे वापिस Encrypt कर देगा। और अपने सुरक्षित कनेक्शन के जरिए आपके फोन पर भेज देगा। अब आपके फोन में जो VPN Software है, वह उस डाटा को Decrypt कर देगा। ताकि आप उसे पढ़ सकें। इस तरह आपके ISP को कभी पता नहीं चलेगा कि आपने किस वेबसाइट पर विजिट किया और वहाँ क्या-क्या Activities की?

यह भी पढ़े –

VPN Protocol क्या है? What is VPN Protocol

VPN Protocol नियमों का वह सेट है, जो VPN Client और VPN Server के बीच Connection स्थापित करने के लिए उपयोग किया जाता है। ताकि VPN Client और VPN Server के बीच सुरक्षित रूप से Data का आदान-प्रदान हो सके। वर्तमान में वीपीएन सेवा प्रदाताओं द्वारा इन VPN Protocols का उपयोग किया जा रहा है :- PPTP, SSTP, L2TP/IPSec, IKEv2/IPSec, IPSec, OpenVPN, SoftEther और Wireguard. लेकिन Wireguard फिलहाल Experimental Phase में है।

वीपीएन कैसे Use करें?

बहुत आसान है। एक बढ़िया VPN Service Provider का चुनाव कीजिए। और उसकी वेबसाइट पर जाकर अपने System के हिसाब से VPN Software Download कर लीजिए। अगर आप Smartphone इस्तेमाल कर रहे हैं तो Google Play Store या App Store से मोबाइल ऐप Download कर लीजिए। वहीं अगर आप चाहें तो Chrome Extension भी Download कर सकते हैं। खैर, उसके बाद अपना एक VPN Account बनाइए उसमें Login करके अपना License Activate कीजिए। लो जी! बधाई हो! आप VPN Use करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

vpn kya karta hai

बस अपना मनपसंद VPN Server अथवा Location Select कीजिए। और Connect हो जाइए Internet एक ऐसी दुनिया से, जहाँ न कोई आपको पहचान सकता है। और न ही आपके उपर नजर रख सकता है। न कोई आपका Data चोरी कर सकता है। और न ही आपको किसी Website तक पहुंचने से रोक सकता है। मतलब, आप पूरी तरह स्वतंत्र और बेफिक्र होकर Internet का मजा ले सकते हैं। और इंटरनेट की आजादी (The Freedom of Internet) को दिल से महसूस कर सकते हैं।

वीपीएन किसे Use करना चाहिए?

VPN Kya Hai वैसे तो हर उस शख्स को VPN इस्तेमाल करना चाहिए, जो Internet यूज करता है। vpn means in hindi लेकिन अगर आप Normal Browsing या हल्के-फुल्के मनोरंजन के लिए Internet इस्तेमाल करते हैं। तो वीपीएन आपके लिए उतना ज्यादा जरूरी नहीं है। पर अगर आप Online Banking, Trading, Cryptocurrency, Government Agency, Security Firm, Data Center अथवा संवेदनशील सूचनाओं से जुड़ा कोई काम करते हैं। तो वीपीएन आपके लिए जरूरी ही नहीं बल्कि अनिवार्य है। और ऐसे कामों के लिए आपको हर हाल में VPN यूज करना ही चाहिए।

VPN के फायदे : VPN ke fayde : vpn use karne ke fayde

  • सबसे पहला फायदा यहीं है कि आप इससे किसी भी ब्लॉक वेबसाइट को ओपन कर सकते हैं.
  • आप अपने कंट्री की लोकेशन चेंज कर सकते है जैसे चाइना में फेसबुक ब्लॉक है तो चाइना वाले लोग वीपीएन से अपनी कंट्री लोकेशन चेंज करके फेसबुक यूज़ कर सकते हैं.
  • इन्टरनेट में आपको वीपीएन की सर्विस फ्री और पेड भी मिल जाती है आप चाहे तो वीपीएन सर्विस को फ्री में भी इस्तेमाल कर सकते हैं Google प्लेस्टोर में कई एप है जो फ्री में वीपीएन की सर्विस देते हैं.
  • जब आप वीपीएन सर्विस यूज़ करते है तो सारा कनेक्शन इनक्रिप्ट हो जाता है इसलिए इस सर्विस का इस्तेमाल करके आप हैकर से बच सकते हैं.


VPN के नुकसान : vpn ke nuksaan

  • कुछ लोग मानते है कि वीपीएन को यूज़ करने से उन्हें कोई नहीं पकड़ पाता लेकिन ये गलत आप पूरी तरह से अपने आप को नहीं छुपा पाते हैं क्योंकि वीपीएन सर्वर में आपका डेटा मौजूद रहता है.
  • कई फ्री वीपीएन सर्विस आपके डेटा को मिसयूज़ भी कर सकती है क्योंकि उनके पास आपने जो एक्सेस किया उसकी पूरी डिटेल होती है.
  • वीपीएन का सबसे बड़ा नुकसान ये है कि इसे यूज़ करके हैकर अपनी कई हद तक अपनी पहचान छुपाने में कामयाब हो जाते हैं.
  • अगर आप वीपीएन का इस्तेमाल करके इन्टरनेट चला रहे है तो आपको स्लो स्पीड मिलेगी क्योंकि आपके और गूगल के बीच एक और सर्वर जुड़ जाता है जिसे हम VPN सर्वर कहते हैं

प्राइवेसी के तौर पर VPN से क्या-क्या HIDE कर सकतें है?

VPN Kya Hai कई ऐसी जानकारियों को छुपा सकता है जो about vpn in hindi आपकी privacy को खतरे में डाल सकती हैं. इनमें से कुछ जानकारियां इस प्रकार हैं:

  • Browsing History – अगर आप VPN का इस्तेमाल नहीं करते हैं और Internet Browser पर कुछ search करते हैं तो आपका Internet Service Provider (ISP) और browser आपकी activity को ट्रेस कर सकते हैं. इसके साथ ही आप जिन-जिन websites पर विजिट करते हैं वो भी आपकी History को अपने पास रख सकते हैं. वेब ब्राउज़र आपकी सर्च हिस्ट्री को trace कर आपके IP Address के साथ बांध सकते हैं.

अगर ऐसा होता है तो आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. बिना VPN के इस्तेमाल से आपके द्वारा सर्च की गई जानकारियां browser के साथ share हो जाएगी और आपको targeted विज्ञापन प्राप्त होना शुरू हो सकते हैं जो बार-बार परेशान करेंगे. साथ ही आपका internet service provider आपकी browsing history को बेच भी सकता है.

  • IP Address और Location – कोई भी अगर आपके IP Address को trace करता है तो वह पता लगा सकता है कि आपने internet पर क्या सर्च किया और सर्च करने के दौरान आपकी location क्या थी. लेकिन जब एक VPN किसी IP Address का इस्तेमाल करता है जो आपका नहीं है, तब यह आपकी privacy को सुरक्षित रखता है और आपको गुमनाम रूप से सर्च करने की परमिशन देता है. साथ ही यह आपकी सर्च हिस्ट्री को एकत्रित करने, देखे और बेचे जाने से बचाता है. ध्यान रखें, यदि आप किसी public computer या आपके मालिक, स्कूल या दूसरी संस्था द्वारा प्रदान किए गए कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं तो आपकी search history को देखा जा सकता है.
  • आपका Device – VPN का इस्तेमाल कर आप अपने डिवाइस जैसे कि Laptop, Computer, Mobile या Tablet को जासूस की बुरी नजरों से दूर रख सकते हैं. इंटरनेट इस्तेमाल करने के दौरान आपका device साइबर अपराधियों का मुख्य निशाना हो सकता है, खासतौर पर जब आप एक public Wi-Fi नेटवर्क का इस्तेमाल कर रहे होते हैं. VPN आपके द्वारा भेजे जाने वाले और प्राप्त किए जाने वाले data को सुरक्षित रूप से रखने में मदद करता है ताकि hackers आप पर नजर ना रख सके.
  • Live Streaming के लिए आपकी Location – अगर आप देश से बाहर कहीं travel कर रहे हैं और live streaming सेवा के जरिए किसी खेल या शो का आनंद लेना चाहते हैं तो हो सकता है यह संभव ना हो. ऐसा इसलिए क्योंकि कुछ देशों के अपने नियम और शर्ते होती हैं जिनके तहत आप लाइव स्ट्रीमिंग सेवा का आनंद नहीं ले सकते.

फिर भी आप उस देश में VPN के इस्तेमाल से एक ऐसा IP Address चुन सकते हैं जो streaming service पर दिखाए जाने वाले किसी भी इवेंट तक पहुंच प्रदान कर सकता है. इसके जरिए आप data की speed को भी बढ़ा सकते हैं.

Computer के लिए Best Windows VPN Software – Best Windows VPN Software in Hindi

Best VPN app वैसे तो इंटरनेट पर बहुत सारे VPN Software मौजूद हैं vpn meaning in hindi लेकिन यहाँ मै आपके साथ कुछ भरोसेमंद Best Windows VPN Software के नाम शेयर कर रहा हूँ जिन्हें आप आसानी से अपने कंप्यूटर पर इस्तेमाल कर सकते हैं.

  • Zenmate
  • Windscribe
  • Finch VPN
  • ZPN Connect
  • Surf Easy
  • Tunnel Bear
  • Hotspot Shield
  • OpenVPN
  • CyberGhost
  • Total VPN

Mobile के लिए Best VPN apps

  • SaferVPN
  • NordVPN
  • TIger VPN
  • ExpressVPN
  • Windscribe
  • Buffered VPN

क्या VPN का इस्तेमाल करना सही है या नहीं ?

vpn ka matlab इंटरनेट पर data चोरी और privacy से संबंधित खतरा हमेशा बना रहता है, इसलिए इन सब से बचने और अपनी गुमनामी को बनाए रखने के लिए VPN का इस्तेमाल बिल्कुल सही है. मतलब हमें VPN का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए.

This Post Has 3 Comments

Leave a Reply