CIN Number Kya Hai in Hindi:मीनिंग, उपयोग,डिकोडिंग और फुल फॉर्म 2021

CIN Number Kya Hai in Hindi:मीनिंग, उपयोग,डिकोडिंग और फुल फॉर्म 2021

CIN Number Kya Hai in Hindi आज कल के ज़माने में ऐसे ही किसी कंपनी जो की भारत सरकार द्वारा उन सभी कंपनी को जो भी रजिस्टर्ड है या नहीं इसका पता लगाना आम लोगो के लिए बहुत मुश्किल होता है जिसके कारण कई कंपनी बिना रजिस्ट्रेशन के बिना भी काम करती है इस कारण सरकार द्वारा उन सभी कंपनी को रजिस्ट्रेशन के लिए उन्हें एक spacial नंबर या संख्या प्रदान की जाती है जिसे CIN Number कहा जाता है

CIN Number Kya Hai in Hindi?

आज हम दोस्तों जानेंगे की CIN Number Kya Hai in Hindi? कॉर्पोरेट आइडेंटीफिकेशन नम्बर या कॉर्पोरेट आइडेंटिटी नम्बर (CIN) एक 21 अंकों की अल्फा-न्यूमेरिक संख्या है जो सभी प्राइवेट लिमिटेड कंपनियों, एक व्यक्ति की मालिकाना हक वाली कंपनियों, भारत सरकार के स्वामित्व वाली कंपनियों, राज्य सरकार [state government] की कंपनियों, नॉट-फॉर-प्रॉफिट, निधि कंपनियों, आदि को प्रदान की जाती है। CIN नंबर एक अलग पहचान रखने वाली कम्पनीका एक नंबर होता है जिसे MCA (कॉर्पोरेट मंत्रालय) के तहत सारे राज्यों के RoC (कंपनियों के रजिस्ट्रार) द्वारा कम्पनियों को दिया जाता है

RoC द्वारा रजिस्ट्रेशन [registration] के बाद CIN नंबर का उपयोग किसी व्यवसाय, पेशा की सभी गतिविधियों को ट्रैक करने के लिए किया जाता है। इस संख्या में एक संगठन की पहचान और आरओसी के तहत रजिस्टर्ड कंपनी के बारे में अतिरिक्त जानकारी भी शामिल है। RoC द्वारा 21 अंकों के अल्फा न्यूमेरिक यूनीक आइडेंटिफिकेशन नंबर का उपयोग करके कंपनी की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

CIN में कईसाड़ी महत्वपूर्ण जानकारी भी होती हैं, जैसे कि

इनकॉर्पोरेशन का वर्ष (उदाहरण: 2020)
राज्य कोड {state code} (उदाहरण: DL- दिल्ली)
कंपनी का प्रकार (उदाहरण: PLC – public limited company)
लिस्टिंग स्टेटस (उदाहरण: L – लिस्टेड
यह जानकारी सर्टिफिकेट ऑफ इनकॉर्पोरेशन पर भी पाई जा सकती है।

CIN Number format कैसा होता है

CIN नंबर {CIN Number Kya Hai in Hindi} जिसे 6 वर्गों में विभाजित किया गया है, CIN नंबर का उदाहरण निम्नलिखित है:

U 12345 DL 2020 PLC 098765

U: लिस्टिंग स्टेटस
12345: उद्योग या कंपनी कोड
DL: राज्य कोड[state code]
2020: इनकॉर्पोरेशन वर्ष
PLC: ऑनरशिप
098765: रजिस्ट्रेशन नम्बर

पहला भाग कंपनी के लिस्टिंग स्टेटस को दर्शाता है। यदि कंपनी लिस्टे़ड है तो ‘L’ और यदि लिस्टे़ड नहीं है तो ‘U’। अगला भाग या 5 अंक व्यवसाय कोड का प्रतिनिधित्व करता है। किसी भी व्यवसाय में व्यापार करने वाली कंपनी को RoC द्वारा एक व्यवसाय कोड दिया जाता है। अगले दो अंक राज्य कोड को दर्शाते हैं जहां कंपनी रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज के तहत रजिस्टर्ड है। राज्य कोड के बाद कंपनी के इनकॉर्पोरेशन का वर्ष दिखाई देता है जो CIN संख्या में 4 अतिरिक्त अंकों का उपयोग करता है। फिर अगले तीन अंक कंपनी के प्रकार का संकेत देते हैं कि प्राइवेट या लिमिटेड कंपनी, भारत सरकार, नॉट-फॉर-प्रॉफिट, वन पर्सन कंपनी या राज्य सरकार की कंपनी। अंतिम छह अंक कंपनी के RoC कोड दर्शाते हैं और ये सभी भाग 21 अंकों के अलग CIN नंबर को बनाते हैं।

नोट: सीमित दायित्व कंपनी (LLP) CIN का उपयोग नहीं करती है। उन्हें LLPIN प्रदान किया जाता है।

CIN नंबर का उपयोग क्या है ?

CIN नंबर का प्रयोग {CIN Number Kya Hai in Hindi} किसी रजिस्टर्ड कंपनी के सभी पहलुओं को RoC से निगमन की तारीख से ट्रैक करने के लिए किया जाता है। यह अलग पहचान वाला नम्बर / कोड मुख्य रूप से ऑडिट और प्रस्तुत रिपोर्ट या एमसीए को किसी भी रूप में प्रस्तुत करने के दौरान उपयोग किया जाता है। CIN को कंपनी के आधिकारिक प्रकाशनों, चालान, MCA की वेबसाइट, लेटरहेड्स, मेमो, नोटिस और बिलों पर ई-फॉर्म में प्रिंट करना आवश्यक है। इस नंबर का उपयोग जानकारी संबंधी उद्देश्यों के लिए कंपनियों की ट्रैकिंग और पहचान के लिए भी किया जा सकता है जो पहले से ही RoC या MCA के साथ हैं।

CIN Number कैसे प्राप्त करें?

कंपनी MCA की आधिकारिक ओरिजनल वेबसाइट पर जाकर CIN नंबर प्राप्त कर सकती है। इसके लिए बस आपको आवेदन फॉर्म भरना होता है और सभी प्रकार के जरुरी दस्तावेजों को जमा करना होता है। अंत में, MCA से Review और अप्रूवल के बाद CIN नंबर प्राप्त करने के लिए भुगतान जमा करना होता है।

CIN Number में बदलाव करने वाले कारक क्या है ?

  • यदि किसी कंपनी के लिस्टिंग स्टेटस में कोई परिवर्तन है
  • अगर कंपनी का उद्योग बदलता है
  • अगर कंपनी का सेक्टर बदलता है
  • यदि भारत के रजिस्टर्ड कार्यालय के स्थान या स्थिति में कोई परिवर्तन है

CIN Number में संकेत

  • LFC: पब्लिक लिमिटेड के रूप में फाइनेंशियल लीज़ कंपनी
  • FTC: प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के रूप में एक विदेशी कंपनी की सहायक
  • GAP: जनरल एसोसिएशन पब्लिक
  • GAT: जनरल एसोसिएशन प्राइवेट
  • भारत सरकार के स्वामित्व वाली कंपनियां
  • NPL: नॉट फॉर प्रॉफिट लाइसेंस कंपनी
  • PLC: पब्लिक लिमिटेड कंपनी
  • PTC: प्राइवेट लिमिटेड कंपनी
  • SGC: state गवर्मेंट के मालिकाना हक वाली कंपनियां
  • ULL: अनलिमिटेड दायित्व के साथ पब्लिक लिमिटेड कंपनी
  • ULT: असीमित देयता वाली प्राइवेट कंपनी

गैर-अनुपालन के लिए जुर्माना कितना लगता है ?

यदि {CIN Number Kya Hai in Hindi} कोई company उपर बताई गई जानकारी को पूरा नहीं किया गया है या यदि कोई कंपनी CIN नंबर के लिए आवेदन नहीं करवाती है तो कंपनी और प्रत्येक अधिकारी पर प्रति दिन 1000 रुपये और अधिक से अधिक जुर्माना शुल्क 1 लाख रुपये तक सीमित है।

MPIN Kya Hai in Hindi? How To Set MPIN ? मोबाइल बैंकिंग में MPIN के फायदे

आपने इस पोस्ट से क्या सिखा ; आपने इस पोस्ट से सिखा की CIN Number Kya Hai in Hindi:मीनिंग, उपयोग,डिकोडिंग और फुल फॉर्म ये सब आपने इस पोस्ट से सिखा और cinनंबर कैसे प्राप्त करते है

अगर आपको ये पोस्ट पढने में अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते है और अगर आपका इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी प्रशन है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते है

This Post Has One Comment

Leave a Reply