what is trp rating? how trp is calculated 2021?

what is trp rating? how trp is calculated 2021?

what is trp rating? (What is TRP in Hindi): अगर आप टीवी देखते हैं तो आपने टीआरपी के बारे में तो सुना ही होगा। अगर नहीं तो यह पोस्ट आपके लिए ही है, क्योंकि यहां पर मैं Television Rating Point के बारे में विस्तार से बता रहा हूं। इस पोस्ट में आपको TRP की पूरी जानकारी मिल जाएगी। तो आइये जानते हैं, टीआरपी क्या है – What is TRP and How is it Calculated in Hindi

इस समय The Kapil Sharma Show सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोर रहा है।trp rating kya hai यह टीवी सीरियल Top 10 TRP TV Shows में नंबर वन पर है। अन्य कई टीवी चैनल टॉप में रह चुके हैं।

आपने TV देखते वक्त टीआरपी के बारे में सुना होगा। लेकिन इस पोस्ट में आपको what is trp rating, TRP क्या होती है, टीआरपी की गणना कैसे होती है? इस सब की जानकारी मिलेगी।

what is trp rating ? [TRP Kya Hai]

TRP की Fullform होता है Television Rating Point.है what is trp ratingi इन Points के जरिए ही यह पता चलता है trp kya hoti hai कि कोई Show TV पर कितना अधिक देखा गया. ये पॉइंट्स ही बताते हैं कि कोई शो कितना हिट जा रहा है, या उसे कोई पूछ ही नहीं रहा. इसी वजह से अक्सर आपने टीवी चैनलों को अपने प्रोग्राम की TRP की नुमाइश करते भी देखा होगा.

TRP Full Form

TRP की Fullform होता है Television Rating Point. ही TRP Full Form होती है

TRP Meaning in Hindi

TRP Meaning in Hindi टीआरपी यानी की टेलीविजन रेटिंग पॉइंट (Television Rating Point) होती है |

टीआरपी की गणना कैसे होती है?how trp is calculated

चैनलों की रेटिंग जानने के लिए चंद बड़े शहरों में एक खास तरह की डिवाइस कुछ चुनिन्दा जगहों पर लगाई जाती है. what is trp rating इस डिवाइस को People Meter कहते हैं.[TRP Full Form] ये मीटर हर किसी के घर में नहीं लगते. इसके लिए खास जगह ही सिलेक्ट की जाती है. 

इन्हें खासकर शहरों में लगाया जाता है. जब कहीं People Meter लगा दिए जाते हैं तो यह डिवाइस अपने एरिया के सभी सेटटॉप बॉक्स से कनेक्ट हो जाती है. TRP आम केबल टीवी कनेक्शन पर नहीं नापी जा सकती. इसके लिए सेटटॉप बॉक्स वाला केबल कनेक्शन जरूरी होता है. खास जगहों पर लगे ये people meter संबंधित सेटटॉप बॉक्स की जानकारी ऊपर मॉनिटरिंग टीम के पास भेजते हैं.

क्या सिर्फ यही एक तरीका है?

नहीं. इसके अलावा एक तरीका और है. पिक्चर मैचिंग नाम के तरीके से भी TRP नापी जाती है.what is trp rating इसमें पीपल मीटर उस प्रोग्राम का एक छोटा-सा हिस्सा रिकॉर्ड कर लेता है, जो प्रोग्राम देखा जा रहा होता है. इस तरह के सैंपल कई घरों से लिए जाते हैं. फिर इस डेटा को एनालाइज करके टीआरपी का पता लगाया जाता है.

क्या-क्या जानकारी भेजता है पीपल मीटर?

पीपल मीटर ये सब जानकारियां भेजते हैं कि टीवी देखने वाले ने किस वक्त कौन-सा शो सबसे ज्यादा देखा. कितनी देर तक देखा. इसके अलावा पिक्चर मैचिंग वाले हिस्से को भी एनालाइज करके देखा जाता है कि कौन-सा शो सबसे ज्यादा देखा जा रहा है.

TRP का हिसाब कौन रखता है?

TRP का हिसाब-किताब रखने की जिम्मेदारी INTAM और DART नाम की दो एजेंसियां करती हैं. INTAM का मतलब है Indian Television Audience Measurement. और DART का मतलब है

Doordarshan Audience Research Team. डार्ट की रेटिंग तब ज्यादा महत्व रखती थी, जब प्राइवेट चैनल बहुत कम या नहीं के बराबर थे. हालांकि अब भी DART काम करती है. ये ग्रामीण इलाकों और उन छोटे शहरी इलाकों में टीवी देखे जाने के पैटर्न पर नजर रखती है. डार्ट लोगों के पास जाकर और इलेक्ट्रॉनिक, दोनों ही तरीके से डेटा कलेक्ट करती है. दूसरी तरफ INTAM पूरी तरह से अपने पीपल मीटर के भरोसे है.

इस TRP के जरिए ही इंडस्ट्री की सबसे बड़ी रेटिंग एजेंसी BARC यानी Broadcast Audience Research Council एक लिस्ट जारी करती है. यह लिस्ट हर हफ्ते आती है. इसमें लिखा होता है कि किस चैनल को किस टाइम स्लॉट में कितने इंप्रेशन मिले. मतलब कितने लोगों ने उसे देखा.

TRP से टीवी चैनलों की कमाई का क्या सिस्टम है?

टीवी चैनलों की कमाई का पूरा सिस्टम इसी TRP से चलता है. टीवी चैनलों को अपनी आमदनी का 90 फीसदी हिस्सा विज्ञापनों से मिलता है. इन विज्ञापनों को दिखाने का हर टीवी चैनल का अपना-अपना रेट होता है. यह रेट इस बात से ही तय होता है कि किसी चैनल को कितने ज्यादा लोग देख रहे हैं. और ये कौन बताता है?

TRP के आंकड़े. इसी से पता चलता है कि कौन-सा चैनल ज्यादा पॉपुलर हो रहा है. इसके बाद तो सीधा फंडा है- जो दिखता है, वो बिकता है. जिसकी ज्यादा TRP, उसके पास विज्ञापन देने वालों की उतनी ज्यादा भीड़. और इस भीड़ के चलते उसके विज्ञापनों के उतने ही ज्यादा रेट. हालांकि चैनल इसे सबसे भरोसेमंद और बेहतरीन चैनल का तमगे के तौर पर भी देखते हैं. लेकिन यह गुणवत्ता नहीं बल्कि ज्यादा से ज्यादा उसे देखने वालों की रेटिंग होती है.

इसे ऐसे भी समझ सकते हैं, मान लो एक टीवी चैनल पर 5 लोग काम करते हैं और उन्हें सालाना 10-10 लाख रुपए मिलते हैं. और बाकी खर्च 10 लाख रुपए का आता है. अब अगर उस चैनल की TRP ज्यादा है और उसे 1 करोड़ के ऐड मिल रहे हैं तो चैनल मालिक को 5 लोगों की सैलरी 10 x 5 = 50 और बाकी 10 लाख अन्य खर्च के जोड़ने के बाद भी 40 लाख बचते हैं. अगर उस चैनल की TRP नीचे गिर जाती तो ऐड देने वाले चंपत हो जाएंगे. चैनल को चलाने का खर्च निकालना मुश्किल हो जाएगा.

इसे भी पढ़े :-upi id kya hai और कैसे उपयोग करे

trp ghotala kya hai

फर्जी टीआरपी घोटाला (TRP Scam) trp ghotala kya hai पिछले महीने तब सामने आया था जब रेटिंग एजेंसी ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने हंसा रिसर्च ग्रुप (Hansa Research Group) के जरिए एक शिकायत दर्ज करवाई थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि कुछ टेलीविजन चैनल टीआरपी (TRP) के आंकड़ों में हेरफेर कर रहे हैं.

सुदर्शन टीवी का किस्सा तो याद होगा? वही, जिसने UPSC जिहाद नाम का शो बनाया था. वह मामला जब सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था तो जजों ने कहा था कि कुछ टीवी चैनल सिर्फ TRP का खेल बनते जा रहे हैं. गुरुवार 8 अक्टूबर को मुंबई पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके दावा किया कि उसने एक ऐसे रैकेट का खुलासा किया है, जो टीवी चैनलों की TRP हेराफेरी करके बढ़ाने में लगे थे. आखिर क्या है ये TRP, जिसको लेकर इतनी हाय-तौबा मची है. आइए जानते हैं तफ्सील से –

TRP के अक्सर पूछे जाने वाले प्रशन [FAQ]

टीवी शो की रेटिंग के TRP सिस्टम पर जानकार कुछ सवाल भी उठाते रहते हैं, जैसे-

# एजेंसी ने किस शहर में और किनके यहां पीपल मीटर लगाए हैं, इसे लेकर पारदर्शिता नहीं बरती जाती.

# चूंकि यह सिर्फ बड़े शहरों और चंद हजार घरों से ही डेटा कलेक्ट करते हैं, ऐसे में इनके डेटा पर कैसे भरोसा किया जाए?

# अगर कोई टीवी चला भर दे लेकिन उसे देखे न, तब भी उस चैनल को रेटिंग मिल जाएगी. ऐसे में व्यूअरशिप नापने का यह तकनीकी रूप से सटीक नहीं है.

# पूरी इंडस्ट्री में चंद एजेंसियां ही हैं, जो ये काम करती हैं. ऐसे में एकाधिकार बढ़ता जाता है. सिस्टम को अपने हिसाब से तोड़ने-मरोड़ने की गुंजाइश रहती है.

# TRP की होड़ बढ़ जाने से कार्यक्रमों की गुणवत्ता घटती है. चैनल कुछ भी दिखाकर टीआरपी हासिल करने की होड़ करते हैं.

वीडियो – सुदर्शन टीवी के विवादित कार्यक्रम ‘बिंदास बोल’ के प्रसारण पर कोर्ट ने जरूरी बात कही है

यह भी पढ़े

आपने इस पोस्ट से क्या सिखा – आप्पने इस पो, स्ट से सिखा कि what is trp rating, TRP Full Form, TRP Meaning in Hindi, how trp is calculated, trp ghotala kya hai आपने इस [ओसत से ये सब सिखा

अगर आपका इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी प्रशन होता है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है अगर आपको ये पोस्ट पढने में अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और अपने प्रियजनों के साथ भी शेयर कर सकते है इस पोस्ट को पढने के लिए धन्यवाद

Leave a Reply