You are currently viewing RTGS Kya Hai RTGS कैसे करें ,RTGS और NEFT में अंतर क्या है।

RTGS Kya Hai RTGS कैसे करें ,RTGS और NEFT में अंतर क्या है।

आरटीजीएस चार्ज | RTGS Full Form | RTGS Meaning in Hindi | RTGS Full Form | RTGS Meaning in Banking | RTGS Ka Matlab | RTGS Kaise Karte Hain | What is RTGS |

RTGS Kya Hai ” दोस्तों क्या आप जानते है और RTGS और NEFT में अंतर क्या होता है अगर नहीं जानते तो आप सही पोस्ट पढ़ रहे है आज कल की इस भाग दोड़ भरी जिंदगी में बहुत से लोग बैंक के दिन में एक से दो जारूर जाते होंगे एजी आप व्यापारी है तो

आप बैंक के बहुत ज्यादा चक्कर लगते होंगे आज हम इस पोस्ट में RTGS Kya Hai जानेंगे

RTGS Kya Hai? what is rtgs in hindi

RTGS Kya Hai? RTGS की फुल फॉर्म से मतलब (RTGS in Hindi) RTGS का full form होता है Real Time Gross Settlement.और ये एक तरह की continuous, real-time process है funds settlement का जहाँ की funds को individually [व्यक्तिगत रूप से]और order-by-order के basis पर बिना netting [जाल] के एक अकाउंट से दुसरे account पर भेजा जाता है.

RTGS का उपयोग बड़ी अमाउंट यानि 2 लाख से ऊपर की रकम भेजने के लिए किया जाता है। यदि किसी कारण पैसे दुसरे के अकाउंट में नहीं पहुँचते है तो भी सारी अमाउंट आपके अकाउंट में वापस भेज दी जाती है। RTGS सेवा का लाभ कोई भी  व्यक्ति जिसका बैंक में खाता  है उठा सकता है बस आपको बैंक से एक RTGS फण्ड ट्रान्सफर का फॉर्म लेकर भरना पड़ता है।

आप अब तक ते जान ही चके होंगे कि RTGS Kya Hai अब हम RTGS कैसे करते है इसके बारे में जानेंगे

yह भी पढ़े –

RTGS Full Form Hindi : RTGS Full Form in Hindi

RTGS का full form होता है Real Time Gross Settlement.

RTGS Full Form in Hindi ” रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट” होता है |

RTGS Kaise Karte Hain ?

यह सवाल लोगों के दिमाग में हमेशा आता है कि RTGS Kya Hai और rtgs kaise kare और RTGS से कैसे की मदद से पैसों का transfer करें. तो इसका बहुत ही आसान सा जवाब है कि ये हम दो तरीके से कर सकते हैं एक है Online और दूसरा Offline तरीका. तो आज मै आप लोगों को इन दोनों तरीकों के बारे में जानकारी देने वाला हूँ.

Online Method से RTGS करने के लिए

  • RTGS Kya Hai अगर आप ये जानते है तो आप ऑनलाइन RTGS करने के लिए आप इन्टरनेट बैंकिंग का उपयोग करके भी RTGS कर सकते हैं. इसके साथ यदि आपको जिस व्यक्ति को फण्ड ट्रान्सफर करना है उसे Payee अथवा लाभार्थी कस्टमर के रूप में अपने Account में Add करना होता है जहाँ आपको उस कस्टमर के विषय में सारी जानकारी प्रदान करनी होती है और उसके बाद बैंक उस लाभार्थी की Details को Check करता है. इस काम के लिए बैंक को लाभार्थी की Detail Check करने में लगभग 12-24 घंटें का समय लगता है.
  • बैंक के द्वारा जब Checking Process पूरी तरह से Complete हो जाती है तब बैंक के द्वारा लाभार्थी कस्टमर को Activate कर दिया जाता है जिसके बाद आप उस लाभार्थी कस्टमर को फण्ड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  • किसी भी Person को अपने बैंक अकाउंट में लाभार्थी अथवा Payee के रूप में Add करने के लिए आपके पास लाभार्थी कस्टमर से Related निम्नiलिखित जानकारी का होना जरूरी होता है अन्यसथा आप अपने इन्टरनेट बैंकिंग अकाउंट द्वारा उसे लाभार्थी के रूप में Add नहीं कर सकते हैं –

– Bank और Bank Branch का नाम
– Name और Account Number
– उनके जो भी बैंक हो बैंक का IFSC Code (Indian Financial System Code)

Offline Method से RTGS करने के लिए

  • यदि आपको RTGS Kya Hai ? rtgs in hindi ये पता है तो आप को ऑनलाइन में apply करना नहीं आता है तब आप इसे ऑफ लाइन में भी apply कर सकते हैं पर इसके लिए आपको Physically बैंक Branch में जाकर ठीक उसी तरीके से एक पर्ची भरनी होती है, जिस तरीके से आप Cheque Deposit या NEFT करते समय Normally Form भरते हैं.
  • जैसे ही आप निर्देश पर्ची भरके Deposit करते हैं, तो Sending Bank उस निर्देश पर्ची में भरी गई जानकारी को अपने Central Processing System में डाल देता है.
  • जानकारी सेंट्रल प्रोसेसिंग सिस्टम पर डालते करते ही उसे RBI को Send कर दी जाती है.
  • इसके पश्चात RBI सारी लेनदेन को प्रोसेस करके Complete करता है और Sending Bank के अकाउंट से अमाउंट (पैसों) को Debit करके जिस बैंक को RTGS किया गया है उसके अकाउंट में उस Amount को Credit कर देता है.
  • RTGS Kya Hai इस पूरी प्रोसेस के बाद [एकअद्वितीय लेनदेन संख्या] Unique Transaction Number (UTN) Generate होता है, जिसे RBI, Amount Send करने वाले बैंक को भेज कर देता है. Sender बैंक को ये UTN प्राप्त होने का ये मतलब होता है कि आपका Fund अभी Transfer हो गया ह


जैसे ही अमाउंट भेज देने वाले बैंक को UTN Receive होता है, वैसे ही वह बैंक इसकी जानकारी Amount Receive करने वाले बैंक को देता है और उसके बाद Receiver बैंक वह Amount उस अकाउंट Holder के अकाउंट में Credit कर देता है जिसे Amount Send किया गया है.
इस प्रोसिजर जो पूरा होने के लिए लगभग 30 मिनिट का टाइम लग जाता है और इसके दौरान ही आपका RTGS Transaction Complete हो जाता है और Fund Beneficiary के में Credit कर दिया जाता है.अब तक आपने इस पोस्ट में पढ़ा की RTGS Kya Hai और अब हम RTGS Transaction के Features के आआआआआआ में बात करेंगे

RTGS Transaction के Features: विशेषताए

about rtgs in hindi यहाँ पर RTGS Kya Hai और में आप लोगों को RTGS transaction से सम्बंधित कुछ features के बारे में बताने जा रहा हूँ जिनके विषय में आपको जानना बहुत ही जरुरी है :

  • इसमें रियल टाइम फण्ड ट्रान्सफर किया जाता है
  • इसे मुख्यतः high value transactions के लिए इस्तमाल किया जाता है
  • ये बहुत ही Safe और secure होता है
  • ये बहुत ज्यादा Reliable है क्यूंकि इसके पीछे RBI का हाथ होता है
  • इसमें Immediate clearing हो जाती है
  • इसके साथ इसमें Funds को one-on-one basis में credit किया जाता है
  • इसमें Transactions को individual और gross basis में execute किया जाता है

RTGS असल में किनके लिए जरूरी है?

अगर कोई व्यक्ति हर एक दिन बड़े लेनदेन कर रहा है तब उन्हें मुख्यतः RTGS की जरुरत होती है. देखा जाये तो व्यापारियो के द्वारा ये ज्यादा उपयोग में लाये जाते हैं क्यों कि उन्हेै अपने Business से सम्बंधित दिन भर में कई बार ज्यादा बड़े Value के लेनदेन करने होते हैं, और ऐसे High Value वाले लेनदेन RTGS के माध्यम ही किए जा सकते हैं. लेकिन ये सिर्फ उनके लिए ही सिमित नहीं है बल्कि RTGS का इस्तमाल आम निवेशकों या कोई व्यक्ति भी कर सकते हैं.RTGS Kya Hai? या

अगर कभी किसी व्यक्ति को अपने किसी एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में या फिर किसी दूसरे लोग के अकाउंट में INR 2,00,000 या उससे ज्यादा का फण्ड ट्रांसफर करना है तो उसे RTGS का उपयोग करना ही होगा फण्ड ट्रांसफर के लिए. आप Mutual Fund में investment करने के लिए भी RTGS का Use कर सकते हैं.और आप RTGS Kya Hai? ये पढ़ चुके ही इस पोस्ट में और अब हम RTGS Transactions के Charges और Fees क्या है के बारे में जानेंगे

RTGS Transactions के Charges और Fees क्या है ?

आपने अब तक इस पोस्ट में देखा किRTGS क्या होता है इस प्रक्रिया में प्राप्तकर्ता बंक (जिस बैंक को पैसे भेजे जाते हैं) को कोई भी charge नहीं पड़ता है RTGS transaction के लिए. लेकिन भेजने वाला (जो पैसे भेजता है), इन्हें बैंक कुछ chargs लगाता है पैसों के ट्रान्सफर के लिए जो की कुछ इस प्रकार है :

अमाउंट RTGS Fee
Rs.2 lakh से Rs.5 lakh तक Rs.30 per transaction
Above Rs.5 lakh तक Rs.55 per transaction

RTGS करने के Timings

Weekdays 9.00 a.m. से 4.30 p.m तक
Saturdays 9.00 a.m. से 2.00 p.m तक

RTGS और NEFT में मुख्य क्या अंतर है ?

मानदंडNEFTRTGS
Settlementsलेनदेन को batches में सेटल किया जाता हैवहीँ यहाँ पर लेनदेन को व्यक्तिगत रूप से किया जाता है
Timingsयहाँ पर Settlement को hourly basis में बैंक कार्य के घंटे के दोरान किया जाता हैलेकिन यहाँ पर Real Time पर ही सारे process को निपटाया जाता है
Transaction Amount Limit यहाँ कोई न्यूनतम सीमा नहीं है लेकिन एक अधिकतम सीमा जरुर हैवहीँ यहाँ पर Minimum limit है Rs.2 lakh वहीँ कोई भी upper ceiling नहीं है
Valueइन्हें मुख्यतः lower और medium range के लेनदेन के लिए किया जाता हैवहीँ इन्हें सबसे ऊँची value के लेनदेन के लिए इस्तमाल किया जाता है

FAQ

Q 1. RTGS लेनदेन की minimum और maximum limit क्या है ?

Ans 1. ये बात हमेशा याद रखें की सारे RTGS लेनदेन को मुख्यतः बड़े value वाले transactions के लिए इस्तमाल किया जाता है. वहीँ इनका RTGS transactions का minimum amount है Rs.2 lakh. और इसका कोई maximum limit नहीं है.

Q 2. RTGS में fund transfer के पैसे credit होने के लिए कितना समय लगता है ?

Ans 2. कई बार funds instantly credit हो जाते हैं. वहीँ bank पैसों को credit करने के लिए 30 minute time frame लगाता है.

Q 3. क्या RTGS में पैसे पाने वाले को कोई confirmation message या acknowledge मिलती है एक बार उन्हें पैसे भेज देने पर ?

Ans 3. जी हाँ एक confirmation SMS receiver को प्राप्त होता है एक बार उन्हें पैसे मिल जाये तब.

Q 4. . RTGS और NEFT में अंतर क्या है?

Ans 4. NEFT या National Electronic Fund Transfer में transactions को batches में settle किया जाता है, लेकिन वहीँ RTGS transactions को individually settle किया जाता है.

Q 5. अगर किसी कारण भेजे गए व्यक्ति के account पर credit नहीं हो पाता तब क्या वो transaction reverse हो जाता है?

Ans 5. जी हाँ. अगर किसी भी कारण पैसे का लेन देन नहीं हो पाता है तब automatically ही transaction reverse हो जाता है, ऐसे में sender को उसके भेजे गए पैसे एक बार फिर मिल जाते हैं. अगर 24 hours या घंटे में ऐसा नहीं होता है तब आपको अपने निकटवर्ती bank शाखा से संपर्क करना चाहिए.

Q 6. क्या भारत में सभी banks में RTGS की facility उपलब्ध है?

Ans 6. नहीं. पुरे भारत में RTGS की सेवाए केवल कुछ ही RTGS-enabled बैंक में उपलब्ध हैं.

Q 7. बैंक में Inter bank फण्ड ट्रासफर क्या होता है?

Ans 7. जब फण्ड को एक बैंक अकाउंट से दुसरे बैंक अकाउंट तक पैसे भेजने होते हैं तो इसे Inter bank फण्ड ट्रासफर कहते हैं. मूल रूप से इससे पैसों को एक बैंक से दुसरे bank को भेजा जाता है.

Q 8. क्या एक RTGS लेनदेन को अग्रिम में शिड्यूलकिया जा सकता है?

Ans 8. हाँ. RTGS लेनदेन को अग्रिम में शिड्यूल किया जा सकता है

Q 9. हम कितने DAY पहले ये लेनदेन को शिड्यूल कर सकते हैं?

Ans 9. इस लेनदेन को हम अग्रिम में 3 कार्य दिवस पहले ही कर सकते हैं.

Q 10. क्या हम RTGS का उपयोग विदेश बैंक (विदेश) भेजने के लिए कर सकते हैं?

Ans 10. नहीं. ये सेवाए केवल इंडिया में ही उपलब्ध है और वो भी केवाल RTGS-enabled बैंक के साथ

Q 11. RTGS और NEFT क्या है?

Ans. इसी तरह टर्नअराउंड टाइम भी अलग पेमेंट सिस्टम के लिए अलग तय होता है. उदाहरण के तौर पर UPI और IMPS के जरिए फंड ट्रांसफर तुरंत किया जाता है वहीं, NEFT और RTGS के जरिए फंड ट्रांसफर में थोड़ा समय लगता है. 2. RTGS: रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट के जरिए तत्काल फंड ट्रांसफर हो जाता है यानी की रियल टाइम में ट्रांसफर होता है.

आपने इस पोस्ट से क्या सिखा आपने इस पोस्ट से सिखा की RTGS Kya Hai? और कैसे करें ,RTGS और NEFT में अंतर क्या है। आदी और भी बहुत कुछ

अगर आप को RTGS क्या होता है ये ये अछे से समझ आ गया होया आपका इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी प्रशन हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है धन्यवाद

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply